गुर्दे की बीमारी से मुक्ति दिलाएगी ग्रीन टी

कोको और ग्रीन टी मधुमेह से लडऩे में मददगार हो सकते हैं। एक शोध में पाया गया है कि इनमें ऐसे तत्व होते हैं, जो गुर्दे संबंधी बीमारियों या मधुमेह संबंधी रेटिनोपैथी से बचाव या इसके उपचार में सहायक हो सकते हैं।
ब्राजील के वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन में कहा गया है कि कोको और ग्रीन टी पोडोयट्स के खात्मे को रोकने में मदद करते हैं। पोडोयट्स वे कोशिकाएं होती हैं, जो प्रोटीन को मूत्र में जाने से रोकती हैं।
 green tea
समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, कोको एवं ग्रीन टी में पोलीफेनोल्स और थेमोब्रोमाइन होते हैं, जो मधुमेह के प्रभाव को कम कर सकते हैं। कोको और ग्रीन टी को अब तक उनके एंटीऑक्सीडेंट (ऑक्सीकरणरोधी) प्रभावों के लिए जाना जाता है।